SANAUR NEW VISHWAKARMA MANDIR
new vishwakarma mandir, mohalla kansia wala, sanaur .patiala ( PUNJAB)
Phone : 9216550658


shri gurdiyaal singh handa ji

साधन, औजार, युक्ति व निर्माण के देवता विश्वकर्मा जी के विषय में अनेकों भ्रांतियां हैं बहुत से विद्वान विश्वकर्मा इस नाम को एक उपाधि मानते हैं, क्योंकि संस्कृत साहित्य में भी समकालीन कई विश्वकर्माओं का उल्लेख है कालान्तर में विश्वकर्मा एक उपाधि हो गई थी, परन्तु इसका यह अर्थ नहीं कि मूल पुरुष या आदि पुरुष हुआ ही न हो, विद्वानों में मत भेद इस पर भी है कि मूल पुरुष विश्वकर्मा कौन से हुए। कुछ एक विद्वान अंगिरा पुत्र सुधन्वा को आदि विश्वकर्मा मानते हैं तो कुछ भुवन पुत्र भौवन विश्वकर्मा को आदि विश्वकर्मा मानते हैं,ऋग्वेद मे विश्वकर्मा सुक्त के नाम से 11 ऋचाऐ लिखी हुई है। जिनके प्रत्येक मन्त्र पर लिखा है ऋषि विश्वकर्मा भौवन देवता आदि। यही सुक्त यजुर्वेद अध्याय 17, सुक्त मन्त्र 16 से 31 तक 16 मन्त्रो मे आया है ऋग्वेद मे विश्वकर्मा शब्द का एक बार इन्द्र व सुर्य का विशेषण बनकर भी प्रयुक्त हुआ है। परवर्ती वेदों मे भी विशेषण रुप मे इसके प्रयोग अज्ञत नही है यह प्रजापति का भी विशेषण बन कर आया है।
विप्रजापति श्वकर्मा विसुचित।
परन्तु महाभारत के खिल भाग सहित सभी पुराणकार प्रभात पुत्र विश्वकर्मा को आदि विश्वकर्मा मानतें हैं। स्कंद पुराण प्रभात खण्ड के निम्न श्लोक की भांति किंचित पाठ भेद से सभी पुराणों में यह श्लोक मिलता हैः-
बृहस्पते भगिनी भुवना ब्रह्मवादिनी।
प्रभासस्य तस्य भार्या बसूनामष्टमस्य च।
'विश्वकर्मा सुतस्तस्यशिल्पकर्ता प्रजापतिः।। 16।।
महर्षि अंगिरा के ज्येष्ठ पुत्र बृहस्पति की बहन भुवना जो ब्रह्मविद्या जानने वाली थी वह अष्टम् वसु महर्षि प्रभास की पत्नी बनी और उससे सम्पुर्ण शिल्प विद्या के ज्ञाता प्रजापति विश्वकर्मा का जन्म हुआ। पुराणों में कहीं योगसिद्धा, वरस्त्री नाम भी बृहस्पति की बहन का लिखा है।
शिल्प शास्त्र का कर्ता वह ईश विश्वकर्मा देवताओं का आचार्य है, सम्पूर्ण सिद्धियों का जनक है, वह प्रभास ऋषि का पुत्र है और महर्षि अंगिरा के ज्येष्ठ पुत्र का भानजा है। अर्थात अंगिरा का दौहितृ (दोहिता) है। अंगिरा कुल से विश्वकर्मा का सम्बन्ध तो सभी विद्वान स्वीकार करते हैं। जिस तरह भारत मे विश्वकर्मा को शिल्पशस्त्र का अविष्कार करने वाला देवता माना जाता हे और सभी कारीगर उनकी पुजा करते हे। उसी तरह चीन मे लु पान को बदइयों का देवता माना जाता है।प्राचीन ग्रन्थों के मनन-अनुशीलन से यह विदित होता है कि जहाँ ब्रहा, विष्णु ओर महेश की वन्दना-अर्चना हुई है, वही भनवान विश्वकर्मा को भी स्मरण-परिष्टवन किया गया है। " विश्वकर्मा" शब्द से ही यह अर्थ-व्यंजित होता है
श्री विश्वकर्मा मंदिर का इतिहास लगभग 25 साल पुराना है.श्री गुरदयाल सिंह हांडा जी ने इसका निर्माण आरम्भ करवाया था. हर साल मूर्ति स्थापना दिवस ६ जनवरी को मनाया जाता है. शिवरात्रि और श्री कृष्ण जनम अष्टमी हर साल बड़ी धूम धाम से मनाई जाती है. पंडित श्री सदानंद झा जी 12 साल से यहाँ सेवा कर रहे है. मौजूदा प्रधान श्री गुरदयाल सिंह जी बड़े सज्जन पुरुष है और बड़ी श्रद्धा भाव से मंदिर की सेवा कर रहे है. यहाँ पे एक टिब्बा था और जमीन बरी उबर खाबर थी. जिसे संगतों के सहयोग से आबाद किया गया.यहाँ मंदिर की शुरवात में एक कुटिया बनाई गई और आज एक भव्य मंदिर स्थापित हो चुका है मंदिर के सामने श्री नगर खेड़ा जी का स्थान है. एक नई बड़ी ईमारत की स्थापना भी की गई है जहा पे संगत ख़ुशी या गमी में कोई भी प्रोग्राम बड़ी आसानी से कर पाती है.

Designed, Developed & Hosted By : Public News Times