sanaur,shri mahakali pracheen shiv mandir ,
shri mahakali pracheen shiv mandir ,opposite govt sen sec school boys,sanaur
Phone : 09815218841


pandit satyaparkash sharma

श्री महाकाली प्राचीन शिव मंदिर पटियाला के क़स्बा सनौर में स्तिथ यह भव्य समारक माँ काली और शिव भगतों के लिए बहुत आस्था रखता है.यह मंदिर पटियाला से लगभग 8 किलोमीटर की दूरी पर है और बस या ऑटो द्वारा बहुत आसानी से यहाँ पहुंचा जा सकता है. इस मंदिर का इतिहास लगभग 200 साल पुराना है. पहले इस स्थान को सुथरों का डेरा कहा जाता था.आज भी उन के पूर्वजो की सद्माधि स्थल यहाँ पर स्तिथ है. पुराने समय में यह जगह एक सराए थी और व्यापारी लोग रात बिताने यहाँ पर रुका करते थे.यहाँ पर पुरातन शिव मंदिर स्तिथ है जिसे सनौर के ही पांडव परिवार ने औलाद सुख परापत होने की ख़ुशी में जान सहयोग से तयार किया था और यहाँ पर त्रिवेणी रूप में वट वृक्ष ,पीपल और नीम का पेड लगाया .जिस पर जल चढ़ाने से सभी मनोकामनाए पूरी होने की मान्यता है.यहाँ पर एक नया और भव्य माँ काली का दरबार बना हुआ है. जहा पर माता का भव्य स्वरूप राजस्थान से ला कर स्थापित किया गया है.इस मूर्ती को माँ का वैष्णवी सवरूप माना गया है.यहाँ माता की अखंड ज्योति जल रही है जिसे कलकत्ता से महाराजा पटियाला काली मंदिर पटियाला पर लाये थे और वह से माँ की ज्योति को इस मंदिर में लाया गया है.माँ काली का अति सुन्दर विश्राम कक्ष यहाँ बना हुआ है जहा पर माँ को पूरी शर्द्धा और विधान से विश्राम करवाया जाता है. हर वर्ष 13 अप्रैल को मूर्ती स्थापना दिवस मनाया जाता है.और भव्य भंडारे का आयोजन किया जाता है और रामायण पाठ किया जाता है. महा शिवरात्रि, राम नवमी,कृष्ण जनम अष्टमी, और५ नव्ररत्रों का त्यौहार विशेष रूप से मनाया जाता है.मंदिर प्रतिदिन सुबह 5 बजे खुलता है. और सुबह शाम 6 बजे आरती होती है.इस मंदिर में पंडित सत्यप्रकाश शर्मा जी (वजीर कामाक्षा नगर काओ,हिमाचल),सेवा कर रहे है.आप का जनम हिमाचल के खजोन क्षेतर में हुआ.और प्राथमिक शिक्षा और बाहरवी कक्षा तक पढ़ाई हिमाचल में ही हुई. स्वर्गी श्री परमानन्द भारद्वाज द्वारा आप ने धार्मिक शिक्षा ली.संगीत शिक्षा पिता श्री कृष्ण लाल जी द्वारा हुई.महाविद्या की शिक्षा गंगा राम शास्त्री द्वारा और ज्योतिष विद्या श्री प्रेम शास्त्री चिंतपूर्णी वालो द्वारा हुई.आप करम कांडी ब्राह्मण है.आप से पूजा पाठ,और धार्मिक कार्यो हेतु संपर्क किया जा सकता है, संगीत में रामायण सत्संग करने हेतु इलाका निवासी विशेष रूप से आप सरे संपर्क करते है.

Designed, Developed & Hosted By : Public News Times