BHADSON ,SHRI HARI HAR MANDIR .
Shri Hari har mandir ,bhadson,punjab
Phone : 9888773800


mandir comitee

श्री हरी हर मंदिर भादसों एक अध्भुत रमणीक धरम स्थल है.यह स्थान पटियाला से 30 किलोमीटर है.और यह स्थान नाभा और अमलोह के मध्य में स्तिथ है..भादसों तकरीबन 10,000 लोगो की आबादी वाला क़स्बा है.हरी हर शब्द हरी अर्थात भगवान विष्णु और हर अर्थात भगवान शिव जी के सब अवतारों का समावेश है.यहाँ पर माता बसंती जी का बहुत प्राचीन स्थान था यहाँ पर इलाके भर का गन्दा पानी इकठा होता था और यह स्थान बहुत गहरा था.1995 में इस मंदिर के निर्माण हेतु प्रयतन शुरू हुए.और यहाँ पर मिटटी डालने का काम शुरू हुआ.21 जून 1997 को इस मंदिर का नीव पत्थर रखा गया.नदी पार कुराली वाले श्री स्वामी शिव सवरूप आत्मा जी के कर कमलों से इस का शिलान्यास किया गया.स्वामी जी एक सिद्ध पुरुष हुए है उनकी आयु 150 साल बताई जाती है. यह भव्य ईमारत बहुत कम समय में ही तयार हो गई.कहा जा सकता है की इस सारे कसबे में यह सबसे सुन्दर और व्यवस्थित धार्मिक स्थल है.22 जनवरी 1999 को मंदिर में विशेष रूप से राजस्थान से लाई गई अति सुन्दर मूर्तियों की प्राण प्रतिष्ठा संत बाबू राम मोनी जी महाराज द्वारा की गई. श्री लक्ष्मी नारायण जी की बहुत ही आकर्षक और भव्य मूर्ती स्थापित है जिसके दर्शन मातर से ही दर्शन करने वालो को आत्मिक आनंद की अनुभूति होती है.
मंदिर द्वार सुबह 5 बजे से दोपहर 12 बजे तक और शाम को 4 से 8 बजे तक दर्शनों हेतू खुले रहते है.पंडित श्री बुध प्रकाश शर्मा जी पंचवटी कानपुर से आये है और बहुत भगति भाव से मंदिर की सेवा कर रहे है.इस स्थान पर बहुत सारे संत और महापुरषों के चरण पड़े है.बहुत सारे संतों के चरणो की धूलि से इस स्थान की महिमा और ज्यादा बढ़ गई है.श्री राम दशहरा कमेटी इस मंदिर की सेवा और प्रबंध का कार्य देखती है.परधान श्री सुदर्शन गुप्ता जी,कृष्ण गुप्ता जी,संजीव लेखी जी, सरजीवन जिंदल,ब्रह्म प्रकाश,संजीव शर्मा,बलबीर शर्मा जी,रविंदर कौड़ा,डॉ प्रदीप कुंद्रा,चरणजीत कौड़ा,शक्ति कुमार,लितेश बंसल , महिंदर पल बब्बी , सतपाल , सुरेश बंसल ,आदि सज्जन पुरुष तन मन से स्थान की सेवा का काम देख रहे है.मंदिर स्थापना दिवस,कृष्ण जन्माष्टमी,और मार्च में माता बसंती जी का उत्सव बहुत श्रद्धा से मनाया जाता है.सावन महीने में 20 दिन का लंगर लगाया जाता है.सावन मॉस में माँ नैना के दर्शन करने हेतु जाने वाले यात्रीगण यहाँ पर रात्रि विश्राम एवं भोजन हेतु रुकते हैं.इस मंदिर में आते ही विशेष रूप की शांति और दैवी आभास होता है,मंदिर में श्री शिव जी के बारह ज्योतिर् लिंगों से आई हुई पवन ज्योति निरंतर 12 सालों से अखंड प्रकाशमान है.श्री हरिहर मंदिर जूनियर कमेटी मंदिर व्यवस्था और सरे धार्मिक कार्यों हेतु सदा तत्पर रहती है. भगतों को माता रानी और श्री हरी जी सुख और वैभव प्रदान करते है.परधान जी के मत अनुसार नशा, ज़ात पात ,धार्मिक कट्टरता ही देश के पतन का कारन है.नशों से दूर रह कर, माता पिता का आदर करके ही अच्छा जीवन जिया जा सकता है.परमात्मा एक महारस और महा अन्नंद है जिसकी व्याख्या नहीं की जा सकती.परमात्मा सर्व व्यापक है,

Designed, Developed & Hosted By : Public News Times