bhagat singh colony,mandir shri dakshineshwari kali,patiala
mandir shri dakshineshwari kali ,bhagat singh colony,focalpoint,patiala
Phone : 9780351386


mata sunita sharma ji

माता श्री दक्षिणेश्वरी काली मंदिर भगत सिंह कॉलोनी पटियाला स्तिथ बहुत ही सुन्दर धार्मिक स्थल है.यहाँ माँ काली का बहुत सुन्दर स्वरूप स्तिथ है.माता सुनीता जी ने इस मंदिर की स्थापना जन सहयोग से की थी.माता सुनीता जी का व्यक्तित्व बहुत आकर्षक और प्रेम भाव वाला है. बचपन से ही माँ काली की आप पे किरपा है. आप का जनम कालका हिमाचल में माता राज रानी और पिता गीतू शर्मा के घर में हुआ.जब आप सातवी कक्षा में पढ़ रहे थे तो कलकत्ता में माँ काली के दर्शन किये तो दर्शन होते ही बस सारी उम्र माँ के हो कर रह गए.उस अध्भुत प्रतिमा को अपनी माँ मान कर दिन रात उसी का अनुसरन करने लगे.आप ने मैट्रिक तक शिक्षा ग्रहण की,. जहा भी भजन कीर्तन होता तो पैर में घुंघरू बाँध कर जी भर नाचते और माँ का गुणगान करते.वर्ष 1989 में आप की शादी श्री शिव शंकर शर्मा जी से हुई जो की आर्मी में सेवारत है.माँ की किरपा प्राप्त होने की कथा भी बहुत रोचक है. आप के भाई का मानसिक संतुलन खराब हुआ और सात साल उन्हें अपनी सुध बुध नहीं रही हर जगह इलाज हुआ लेकिन कोई भी लाभ न हुआ क्युकि यह दैवी प्रकोप था.तब माता सुनीता ने घर में ही माँ काली की अखंड ज्योति जलाने का वचन लिया और माँ से प्राथना की तो बहुत ही चमत्कारी रूप से माँ की किरपा हुई,अचानक आप के भाई कालका से पटियाला आप के ससुराल घर पहुंचे जो की एक नामुमकिन सी बात थी क्युकि उन्हें तो अपने आप की भी सुध न थी.और वह अकेले ही दैवी किरपा से यहाँ पहुंच गए,माँ काली की सवारी उन पर आई तो उन्होंने बताया की उन्होंने माँ काली की सेवा छोड़ दी थी जिस कारन माँ नाराज़ थी.आप ने माँ से किरपा करने की फ़रियाद की जिसे माँ ने मंजूर किया और आज्ञा दी की पटियाला में काली मंदिर में प्रसाद चढ़ा कर कालका में माँ का लंगर करो .तो ऐसा करते ही आप के भाई स्वस्थ हुए.
वर्ष 2002 में माँ ने बाल रूप में आप को दर्शन दिए और उसी दिन से माँ का मंदिर नित प्रतिदि सपने में दिखाई देने लगा.तो आप ने माँ का मंदिर बनाने का निर्णय लिया. मंदिर के लिए श्री दिगपाल जी ने जगह दान की और आप ने श्री हेमलता जी,रानी जी,राजकुमार हलचल,आदि भगत जनो के सहयोग से मंदिर कार्य सम्पूर्ण किया.7 अप्रैल 2011 को माता मंदिर निर्माण हुआ और माँ के राजस्थान से लाय गए स्वरूप की प्राण प्रतिष्ठा की गई.आज यहाँ माता जी का सुन्दर मंदिर सुशोभित है.बाबा नगर खेड़ा का स्थान भी मंदिर द्वार पर बना हुआ है.नवरात्रों में यहाँ हर वर्ष विशाल जागरण का आयोजन होता है जिस में लंगर लगाया जाता है.महा शिवरात्रि,जनम अष्टमी,नवरात्रों का त्यौहार भी मनाया जाता है.मंदिर सुबह पांच बजे से शाम आठ बजे तक दर्शन हेतु खुला रहता है.यहाँ आने वाले सभी भगत जन माँ की विशेष किरपा पाते है.और उनकी मुरादें पूरी होती है.मंदिर के लंगर भवन का निर्माण कार्य चल रहा है, सभी भगत जनों से अनुरोध है की माँ काली के दरबार में सेवा हेतु बढ़ चढ़ कर दान देने की किरपा करें और माँ का आशीर्वाद प्राप्त करें .दान देने हेतु आंध्र बैंक पटिआला ब्रांच में निम्नलिखित अकाउंट में दान राशि जमा करवाये.जय माता की .
@ sunita sharma ( andhra bank account no- 113010100007310

Designed, Developed & Hosted By : Public News Times