shri rajrajeshwari mandir,nabha
shri rajrajeshwari mandir,nabha,punjab india,
Phone : 98150-22284


maa raj rajeshwari devi

महाराजा हीरा सिंह ने नाभा शहर की स्थापना की .यहाँ से भारत की राजधानी दिल्ली और पाकिस्तान की राजधानी लाहौर दोनों पूरे 272 किलोमीटर की दूरी पर स्तिथ हैं.इस लिए इस स्थान को हिन्दुस्तान और पाकिस्तान की नाभि माना जाता है. इसी नाम से इस शहर को नाम मिला नाभा. यह पंजाब का बहुत ही पुराना और धार्मिक महत्व रखने वाला शहर है. नाभा रयासत बहुत प्रसिद्ध रयासत रही है. पुराने नाभा शहर को पुरानी नाभि नाम से जाना जाता है.नाभा बस स्टैंड से एक किलोमीटर की दूरी पर मंदिर श्री श्री राज राजेश्वरी मंदिर स्तिथ है..इस मंदिर का इतिहास नाभा शहर से भी पुरातन है. महाराजा ने शहर बसाने से पहले इस मंदिर की स्थापना की.यह मंदिर शहर के बिलकुल मध्य में स्तिथ है. यहाँ पर माता बालसुन्दरी जी की प्रतिमा की स्थापना हुई थी.माता जी की यह चलत मूर्ती थी जिसे कहीं भी स्थापित किया जा सकता था.यह स्थान बहुत निचे था. बाद में मंदिर स्थल को ऊँचा करके माता राजराजेश्वरी जी की प्रतिमा स्थापित की गई,और माता बालसुन्दरी जी की मूर्ती खंडित होने की वजह से राजस्थान से उसी जैसी प्रतिमा बनवा कर मंदिर परिसर में दोबारा स्थापित की गई.इस मंदिर की विशेषता है इस मंदिर की 84 गुम्बंदिआं.कलश और गुम्बंदियों पर महाराजा द्वारा सोना चढ़ाया गया था .इस मंदिर के प्रति शहर के प्रत्येक व्यक्ति के मन में विशेष श्रद्धा है. 5 फ़रवरी को मूर्ती स्थापना दिवस मनाया जाता है.इस दिन श्री रामायण पाठ और विशेष भंडारे का आयोजन किया जाता है.सावन में माता नैना के चाले शुरू होने पर भगतों के लिए विशेष लंगर व्यवस्था की जाती है.चेतर मास के चालों में नवरात्रों का विशेष समागम आयोजित होता है.मंदिर स्थापना दिवस से लेकर आज तक माँ की अखंड ज्योति जल रही है.पंडित बरजिंदर भारदवाज और पंडित दीना नाथ इस मंदिर की सेवा और पूजा पथ का काम देखते हैं.मंदिर कमेटी प्रधान श्री राजीव बंसल जी बहुत धार्मिक प्रविर्ती के सज्जन पुरुष हैं. उनके नेतृत्व में सारे ही कमेटी मेंबर बहुत ही तन मन से मंदिर व्यवस्था और सेवा कर रहें है. इस मंदिर में सच्चे मन से मांगी गई हर मुराद पूरी होती है.

Designed, Developed & Hosted By : Public News Times